मैक्स अस्पताल ने 60 वर्षीय महिला का आधुनिक तकनीक से किया उपचार

देहारादून: अपनी तरह की पहली और आधुनिक प्रक्रिया पर ओरल एंडोस्कोपिक मायोटोमी को सफलतापूर्वक अंजाम देकर मैक्स अस्पताल, देहारादून एक बार फिर से विभिन्न जटिल बीमारियों के इलाज़ एवं प्रबंधन के लिए उत्तरी भारत के सबसे आधुनिक स्वास्थ्यसेवा प्रदाता के रूप में उभरा है। एक दुर्लभ बीमारी एकेलसिया के चलते 60 वर्षीय महिला लिए खाना और पानी निगलना मुसकिल हो गया था । हाल ही में ओपन सर्जेरी के बजाए एंडोस्कोपिक  से उनका इलाज किया गया। इस बुजुर्ग महिला को पिछले 4-5 सालों से यह परेशानी थी और फूड पाइप की ब्लॉकेज दूर करने के लिए ओपन सर्जेरी ही एकमात्र विकल्प था, एकेलसिया ऐसी स्थिति है। जिसमें ईसोफेगस फूड पाइप की स्मूद म्सल्स चिकनी मांसपेशियाँ काम करना बंद कर देती है। इसका कारण अब तक ज्ञात नहीं है। इसके चलते ईसोफेगस का  बंद  हो जाता है। जिससे मरीज को खाना और पीना निगलने में परेशानी होती है। और वह स्पाजम जैसा दर्द महसूस करता  है। मैक्स अस्पताल के डॉ.रविकांत गुप्ता,  डॉ.मयंक गुप्ता और वाईस प्रेज़ीडेन्ट एवं यूनिट हैड डॉ. संदीप सिंह तंवर ने निगलने से संबधित स्मस्याओं तथा ईसोफेगस/ फूड पाइप की स्मस्याओं के इलाज के  लिए इस आधुनिक के बारे में लोगों को प्रेस कोंफ्रेस में जानकारी दी ।