ईरान से निपटने को अमेरिका ने तैनात पैट्रियट मिसाइलें

ईरान के साथ बढ़ते तनाव के बीच अमेरिका ने किसी संभावित खतरे से निपटने के लिए अपनी तैयारियां तेज कर दी है। पेंटागन ने कहा कि अमेरिका बलों के खिलाफ ईरान  के किसी  भी खतरे से निपटने के लिए पश्चिम एशिया में अब एक और युद्धपोत और पेट्रियट मिसाइलों को तैनात किया जा रहा है । पिछले साल मई में परमाणु करार से अमेरिका के हटने और ईरान पर प्रतिबंध थोपे जाने से दोनों देशों में  इस समय तनाव चरम पर पहुंच गया है । पेंटागन ने शुक्रवार को कहा, पशिचम एशीया में पहले से तैनात विमानवाहक पोत अब्राहम लिंकन और बी-52  विमानों का साथ  देने के लिए  यूएसएस आलिटर्न  और पेट्रियट एयर डीफेंस सिस्टम को तैनात किया जा रहा है। यह कदम अमेरिका बलों और हितों के खिलाफ ईरान के आक्रामक तैयारियां का संकेत मिलने के बाद उठाया गया है। ईरान के साथ अमेरिका  टकराव नहीं चाहता है , लेकिन क्षेत्र में अपने बलों और हितों कि रक्षा करने के लिए वह तैयार है । इससे पहले अमेरिका विदेश मंत्री माइक पोपियों ने गुरुवार को सख्त लहजे में ईरान को चेतावनी दि थी। कहा था, तेहरान में बैठी सरकार को यह समझ लेना चाहिए कि ईरान कि ओर से अमेरिका हितों या  नागरिकों के खिलाफ कोई हमला होता है तो अमेरिका त्वरित और कारवाई कर  उसका  जवाब देंगे। जबकि गत रविवार को अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार   जॉन बोल्टन ने कहा था।  कि ईरान  पर दबाव बनाने के लिए पश्चिम एशिया में एक विमानवाहक युद्धपोत और विमानों को तैनात किया जा रहा है । ये विमान गुरुवार को कतर के एयर बेस पर पहुंच गए थे ।