आग लगी है इंडोनेशिया के जंगलों में, सांस फूल रही है सिंगापुर-मलेशिया की

इंडोनेशिया के जंगलों में भयानक आग लगी है. यह आग इतनी फैल गई है कि इसके धुएं का असर 1150 किलोमीटर दूर सिंगापुर तक पहुंच गया है. जहाँ सिंगापूर के  लोगों के लिए साँस लेना मुश्किल हो गया है. वहीं, 1440 किमी दूर मलेशिया सरकार ने अपने लोगों को इस धुएं की वजह से बने स्मॉग से बचाने के लिए 50 लाख मास्क बांटे हैं. और यही पिछले कुछ हफ्तों में इंडोनेशिया के सुमात्रा और कालिमंतन के जंगलों में भयानक आग लगी थी.इसकी वजह से 9.30 लाख हेक्टेयर का जंगली इलाका जल चुका है. जिसके कारण जंगली जानवरों को भी मुश्किलों का सामना करना पद रहा है.  हजारों स्थानीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. वहीं, आग को बुझाने और नियंत्रण में करने के लिए करीब 10 हजार अग्निशमन कर्मी और कर्मचारी लगाए गए हैं. आग और ज्यादा न फैले इसके लिए उपाय कर रहे हैं ..

पिछले पूरे हफ्ते पड़ोसी देश सिंगापुर और मलेशिया के आसमान में गहरा स्मॉग था. और इसकी वजह से वहां की हवा की गुणवत्ता खराब हो गई है. यह आग उन किसानों की वजह से लगी जो अपने खेतों से खर-पतवार को जलाते हैं. लेकिन, इसकी वजह से खेतों के बगल मौजूद जंगलों में आग लग गई. इसी तरह का काम ब्राजील के अमेजन जंगलों में रहने वाले किसान और आदिवासी भी करते हैं.

जंगलों की आग से फैले धुएं की वजह से वायु प्रदूषण उच्चतम स्तर तक पहुंच गया है. इस राज्य में 409 स्कूलों को बंद कर दिया गया है. हवा में वायु प्रदूषण का स्तर यानी एयर पॉल्युशन इंडेक्स (API) को पार्टिकुलेट मैटर PM-2.5 प्रति क्यूबिक मीटर से मापते हैं. लेकिन, पिछले 24 घंटों में मलेशिया के 16 राज्यों में से 11 राज्यों में API 101-200 की रेंज में था. यानी बेहद खतरनाक हवा. रोमपिन राज्य के पहांग जिले में API सबसे ज्यादा 232 था. वहीं, सिंगापुर में API 151 था. एशियन स्पेश्लाइज्ड मेट्रोलॉजिकल सेंटर के अनुसार इंडोनेशिया के सुमात्रा और कालिमंतन के जंगलों में लगी आग की वजह से आसपास के देशों मलेशिया, सिंगापुर और ब्रुनेई में वायु प्रदूषण का स्तर तेजी से बढ़ रहा है. सेंटर का कहना है.. कि सुमात्रा और कालिमंतन के जंगलों में 1286 जगहों पर आग लगी है. अपने देश में बढ़ते हुए प्रदूषण को देखते हुए मलेशिया ने इंडोनेशिया सरकार से कहा है कि आग बुझाने का तेजी से प्रयास करें. ताकि आग और न फैले.

इंडोनेशिया में इस वक्त API 1000 के रेंज को पार कर गया है. वहां, दृश्यता 100 मीटर तक घट गई है. इंडोनेशिया सरकार ने कहा है कि इस आग के लिए जो भी जिम्मेदार होंगे, उन सब पर 10 बिलियन इंडोनेशियाई रुपया यानी 4.99 करोड़ भारतीय रुपए का जुर्माना भरना पड़ेगा. इसके साथ ही उसे 10 साल जेल में रहना होगा. पिछले हफ्ते ही इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडो़डो ने कहा था कि वे इस आग की वजह से बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं.