सुप्रीम कोर्ट के फटकार के बाद सख्त हुआ चुनाव आयोग

चुनावों के दौरान हर तरफ से विवादित ब्यान सुनने को मिल रहें हैं. चुनाव आयोग बस रिपोर्ट मांग रहा था हर ब्यान पर, परन्तु सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद चुनाव आयोग ने पहली बार सजा दी है.

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को कड़ी फटकार लगाई थी. कोर्ट ने यह भी पूछा था कि ऐसे नेताओं के खिलाफ अब तक कार्रवाई क्यों नहीं हुई? इसके बाद चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाते हुए बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) अध्यक्ष मायावती और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कार्यवाही की. आयोग को और भी ठोस कदम उठाने की ज़रूरत है.

दो और तीन दिन की रैली पर लगाई रोक

मायावती ने देवबंद में अपने भाषण के दौरान मुस्लिम मतदाताओं को संदेश देते हुए कहा था कि कांग्रेस कहीं लड़ाई में नहीं है, मुस्लिम वोटों में बंटवारा नहीं होना चाहिए. इसके आलावा आदित्यनाथ ने इसके जबाब में एक रैली में कहा था कि कांग्रेस और गठबंधन दलों के लिए अली हैं तो बीजेपी के लिए बजरंगबली है. चुनाव आयोग ने दोनों नेताओं की रैलियों पर क्रमशः दो और तीन दिन की रोक लगा दी है.

नाराज था सुप्रीम कोर्ट

मायावती और आदित्यनाथ पर कोई कार्यवाही ना होने के कारण चुनाव आयोग से काफी नाराज था सुप्रीम कोर्ट. इसके बाद ही चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाते हुए ये सराहनीय कदम उठाया है. ज़रूरत है की आगे इससे भी ठोस कदम उठाने की.

अभी भी जारी हैं विवादित बयानबाजी

आजम खान का जया पर्दा को लेकर दिया घटिया बयान हो या फिर संजय राउत का चुनाव आयोग को दी धमकी हो, सबपर ऐसी ही कार्यवाही होनी चाहिए. लगातार विवादित बयानबाजी जारी है. चुनाव आयोग को इसपर ध्यान देना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *