योगी और मायावती पर चला चुनाव आयोग का डंडा, रोका प्रचार

चुनावी हलचल के बीच उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा सुप्रीमो मायावती की प्रचार की गाड़ी थम गयी है। चुनाव आयोग ने योगी और मायावती के प्रचार करने पर रोक लगा दी है। चुनाव आयोग की ओर से लगाई गई रोक 16 अप्रैल  यानि मंगलवार सुबह 6 बजे से शुरू होगी। प्रचार रोक के लिए आयोग ने दोनों के लिए अलग-अलग सीमा तय की है। जो की मायावती के लिए 48 घंटे और योगी आदित्यनाथ के लिए 72 घंटे तक लागू रहेगी।  

स कारण चुनावव आयोग को उठाना पड़ा ये सख्त कदम
चुनाव आयोग ने साफ किया है कि योगी आदित्यनाथ और मायावती ने चुनावी जनसभाओं को सबोधित करते समय आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया है, जो की आचार सहिता का उल्लंघन है।

दरअसल, हाल ही ने मायावती ने एक जनसभा को संबोधीत करते हुए वोट बैंक के लिए मुस्लिम समुदाय को रिझाने का प्रयास किया था। मायावती ने धर्म के नाम पर वोट बटोरने की कोशिश की थी। जो कि चुनाव आयोग द्वारा बनाए गए निर्देशों के खिलाफ है।

वहीं, दूसरी तरफ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक चुनावी सभा को सबोधित करते समय मायावती को निशाने में लेते हुए बयान दिया था कि ‘अगर विपक्ष को अली पसंद है तो हुमे बजरंग बली पसंद है। जिसके बाद चुनाव आयोग ने पूरे मामले की जांच की और दोनों नेताओं को गलत बयानबाजी के लिए फटकार लगाई।

आपको बता दें कि चुनाव आयोग द्वारा जगाई गई रोक के बाद दोनों नेता ना तो चुनाव प्रचार कर सकते हैं, ना किसी चुनवी रैली को संबोधित कर पाएंगे, ना ही सोश्ल मीडिया में एक्टिव रह सकते हैं और ना की साक्षातकार केआर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *